कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?

Computer kya hai | कंप्यूटर क्या है | What is computer in hindi | Computer ka avishkar kisne kiya | कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया | Computer ke bare me

आज के समय में कंप्यूटर का कितना महत्व है, यह तो आप बखूबी जानते होंगे। वर्तमान समय में लगभग सभी क्षेत्रों में कंप्यूटर के जरिए कई सारे काम किए जा रहे हैं। कंप्यूटर के तेजी से विकास के चलते इस युग को कंप्यूटर युग कहा जा सकता है। आप में से बहुत सारे लोग कंप्यूटर के बारे में बहुत सारी चीजें जानते होंगे लेकिन तकनीकी के अनुसार यह जानना बहुत जरूरी है कि What Is Computer In Hindi Our Computer Ka Avishkar Kisne Kiya. इस आर्टिकल में हम आपको कंप्यूटर से संबंधित सभी प्रकार की जरूरी जानकारी देने जा रहे हैं।

कंप्यूटर क्या है / Computer Kya Hai ?

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है, जो किसी भी डाटा की गणना करने स्टोर करने और आपके द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार काम करता है। कंप्यूटर में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दो सबसे जरूरी हिस्से होते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द Computare से हुई है जिसका हिंदी अर्थ है गणना करना।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर क्या होता है?/ Hardware And Software in Hindi

यदि आप कंप्यूटर के बारे में अच्छी तरह से जानना चाहते हैं तो इसके लिए आपको यह जानना जरूरी है कि हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर क्या होता है? दरअसल हार्डवेयर कंप्यूटर का वह भाग होता है जिसे आसानी से छुआ जा सकता है जैसे सीपीयू, मॉनिटर, माउस, कीबोर्ड इत्यादि। इसके अलावा सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का वह भाग होता है जिसे छुआ नहीं जा सकता। कंप्यूटर को चलाने का काम सॉफ्टवेयर का होता है। दरअसल सॉफ्टवेयर को एक विशेष प्रोग्रामिंग के तहत बनाया जाता है।

कंप्यूटर किस प्रकार से काम करता है / Computer kaise kam karta hai?

कोई भी कंप्यूटर तीन प्रकार से काम करता है- Input, Processing और Output. जब हम कंप्यूटर को कोई दिशानिर्देश देते हैं तो उस प्रक्रिया को इनपुट कहते हैं। हमारे द्वारा दिए गए इनपुट के अनुसार कंप्यूटर उसे प्रोसेस करता है, जिस प्रक्रिया को प्रोसेसिंग कहा जाता है। प्रोसेसिंग करने के बाद जो परिणाम सामने आता है उसे आउटपुट कहा जाता है।

Input Device क्या है?

कोई भी कंप्यूटर आपके द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों के अनुसार ही काम करता है। कंप्यूटर को आपके द्वारा दिए गए दिशानिर्देश की प्रक्रिया को इनपुट कहा जाता है। आपके लिए यह भी जानना जरूरी है कि इनपुट देने के लिए किन उपकरणों का प्रयोग किया जाता है या इनपुट डिवाइस क्या हैं? कंप्यूटर के संबंध में इनपुट डिवाइस उसे कहते हैं जिसके जरिए आप कंप्यूटर को कोई दिशा निर्देश देते हैं जैसे- Keyboard, Mouse, Touchpad, Scanner, Digital Camera, Microphone, Joystick, Graphic Tablet, Touch Screen, Webcam, इत्यादि।

प्रोसेसिंग डिवाइस क्या है / Processing Device kya hai?

जब हम कंप्यूटर को कोई दिशानिर्देश या इनपुट देते हैं तो वह उसे प्रोसेस करता है। जिस डिवाइस के जरिए यह प्रोसेस की प्रक्रिया पूरी की जाती है उसे प्रोसेसिंग डिवाइस कहा जाता है। जैसे- Central processing unit (CPU), Graphics processing unit (GPU), Motherboard, Network card, Sound card, Video card, इत्यादि।

आउटपुट डिवाइस क्या हैं / Output device kya hai?

जब हम कंप्यूटर को कोई इनपुट देते हैं तो वह उसके अनुसार प्रोसेसिंग करता है और हमें आउटपुट प्रदान करता है। जिस डिवाइस पर आउटपुट मिलता है उसे आउटपुट डिवाइस कहा जाता है। जैसे- Monitor, Printer, Headphones, Computer Speakers, Projector, GPS, Sound Card, Video Card, Braille Reader, Speech-Generating Device, इत्यादि।

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था / Computer ka avishkar kisne kiya?

हालांकि आज तक कहीं भी यह जानकारी उपलब्ध नहीं है कि कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया था? लेकिन मॉडर्न कंप्यूटर को बनाने की सोच देने का श्रेय चार्ल्स बैबेज को जाता है। इसीलिए चार्ल्स बैबेज को आधुनिक कंप्यूटर का जनक भी माना जाता है। बहुत सारे लोग उनकी दूरदर्शिता के चलते उन्हें कंप्यूटर का जनक मानते हैं, हालांकि उनके द्वारा सोची और कोशिश गई बहुत सारी चीजें कभी सच नहीं हो सकी। लेकिन उन्होंने आगे के लोगों के लिए एक नई राह खोल कर दी।

कंप्यूटर का अविष्कार कैसे हुआ / Computer ka avishkar kaise hua?

1822 में बैबेज ने सबसे पहले डिफरेंस इंजन बनाने का प्रयास किया था। इसे उन्होंने परिमित अंतर के सिद्धांत के आधार पर बनाना शुरू किया था, ताकि जोड़ और घटाव की एक सरल श्रृंखला के माध्यम से जटिल गणितीय गणनाएं की जा सकें एवं गुणा-भाग से परहेज किया जा सके। हालांकि इस प्रक्रिया के दौरान उन्होंने एक छोटा कैलकुलेटर भी बना लिया। इससे यह साबित हुआ कि उनकी विधि काम कर रही है, लेकिन वे सटीक डेटा के साथ उन लघुगणकीय और त्रिकोणमितीय तालिकाओं को भरने के लिए एक डिफरेंस इंजन नहीं बना पा रहे थे।

हालांकि इससे निराश न होते हुए उन्होंने दुगने जोश के साथ अपना पूरा ध्यान एनालिटिकल इंजन को विकसित करने पर केंद्रित किया। उन्होंने यह सोचकर इस पर काम करना शुरू किया कि यह गुणा और भाग की गणना करके और भी अधिक जटिल गणना करने में सक्षम होगा। हालांकि वे इसे डिजाइन करने के अलावा आगे कुछ नहीं कर सके। लेकिन इस डिजाइन को उन्होंने 1837 में शुरू किया था। भले ही चार्ल्स बैबेज को इसमें पूरी तरह से सफलता नहीं मिल सकी लेकिन उनके इन प्रयासों ने भविष्य में कंप्यूटर को बनाने में काफी योगदान दिया।

बैबेज के एनालिटिकल इंजन के बारे में एनोटेशन और स्केच के हजारों पन्नों में ऐसे कई घटक और प्रक्रियाएं शामिल हैं, जो आधुनिक कंप्यूटर के कॉन्सेप्ट से काफी मिलती-जुलती हैं। इसीलिए उन्हें बहुत सारे लोग कम्प्यूटर का जनक कहते हैं, क्योंकि उनके प्रयासों से ही आगे के लोगों ने कंप्यूटर बनाने का सपना देखा।

कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं / Computer kitne prakar ke hote hain?

वर्तमान समय में कंप्यूटर को मुख्यतः 4 भागों में बांटा जा सकता है। इसमें डेस्कटॉप, लैपटॉप, टैबलेट और सर्वर कंप्यूटर शामिल हैं।

डेस्कटॉप कम्प्यूटर: डेस्कटॉप कंप्यूटर उस प्रकार के कंप्यूटर को कहते हैं जिसे डेस्क या किसी मेज पर रख कर इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रकार के कंप्यूटर में अलग मॉनिटर, अलग सीपीयू, अलग कीबोर्ड और अलग माउस की आवश्यकता पड़ती है। आपको कार्यालयों में इस प्रकार के कंप्यूटर अधिकतर दिखाई देते होंगे।

लैपटॉप कम्प्यूटर: लैपटॉप कंप्यूटर एक पोर्टेबल डिवाइस होता है जिससे बड़े ही आसानी से यहां से वहां लेकर जाया जा सकता है। लैपटॉप कंप्यूटर में माउस, कीबोर्ड, सीपीयू, इत्यादि इनबिल्ट होता है। इसके साथ ही साथ इस में बैटरी भी लगी होती है जिसे चार्ज करके आप कहीं भी बैठकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

टैबलेट: वर्तमान समय में टैबलेट का भी इस्तेमाल काफी तेजी से किया जा रहा है। यह भी एक प्रकार का मिनी कंप्यूटर होता है जो टच स्क्रीन मोड पर काम करता है। यह वर्तमान समय में मिलने वाले स्मार्टफोन से बिल्कुल मिलता जुलता होता है। हालांकि यह उसके मुकाबले थोड़ा बड़ा होता है।

सर्वर कम्प्यूटर: जब हम कंप्यूटर पर कोई चीज सर्च करते हैं तो हमें उससे संबंधित जानकारी प्राप्त होती है। लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इंटरनेट पर मौजूद कोई भी जानकारी एक सर्वर पर स्टोर होती है। इसीलिए इस प्रकार को सर्वर कंप्यूटर कहा जाता है।

इसके अलावा स्मार्टफोन, पहनने योग्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, गेम कंसोल, टीवी, इत्यादि को भी कंप्यूटर का एक प्रकार ही माना जाता है। लेकिन हमने आपको ऊपर जिन चार प्रकार के कंप्यूटरों के बारे में जानकारी दी है वह कंप्यूटर के मुख्य रूप होते हैं।

वर्तमान समय में कंप्यूटर का क्या उपयोग है / Computer ka upyog?

यह तो आप बखूबी जानते होंगे कि वर्तमान समय में कंप्यूटर का लगभग सभी क्षेत्रों में बढ़-चढ़कर इस्तेमाल किया जा रहा है। आज के समय में आप घर बैठे कंप्यूटर के जरिए कई सारे काम बड़े ही आसानी से पूरे कर सकते हैं। पहले के समय में हमें किसी भी काम के लिए कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते थे लेकिन आज के समय में आप उस काम को घर बैठे कंप्यूटर के जरिए कर सकते हैं। नीचे हम आपको वर्तमान समय में कंप्यूटर के कुछ जरूरी उपयोग की जानकारी देने जा रहे हैं।

शिक्षा के क्षेत्र में: वर्तमान समय में ऑनलाइन शिक्षा काफी तेजी से प्रचलित हो रही है। इसमें कंप्यूटर की एक अहम भूमिका है। पहले के समय में जब हमें किसी भी चीज के बारे में जानकारी लेनी होती थी तो हमें किताबों की ओर रुख करना पड़ता था। लेकिन इस समय आप कंप्यूटर के जरिए मात्र कुछ ही क्लिक में अपने सवाल का जवाब पा सकते हैं। इससे छात्रों की शिक्षा के प्रति रुचि भी बढ़ी है।

स्वास्थ्य: स्वास्थ्य के क्षेत्र में कंप्यूटर एक वरदान बनकर सामने आया है। कंप्यूटर की मदद से मरीजों का इलाज बहुत ही आसान हो चुका है। इसके साथ ही साथ कई सारी गंभीर रोगों का इलाज कंप्यूटर के चलते संभव हो सका है।

उद्योग क्षेत्र में: उद्योग क्षेत्र में भी कंप्यूटर का बहुत बड़ा योगदान है। कंप्यूटर के जरिए ही आजकल मार्केटिंग और बिजनेस काफी आसान बन चुका है। इसके साथ ही साथ कंप्यूटर के जरिए ही आजकल कैशलैस ट्रांजैक्शन को अधिक महत्व दिया जा रहा है। इतना ही नहीं वर्तमान समय में आप उद्योग से संबंधित बहुत सारे काम घर बैठे कंप्यूटर के जरिए भी कर सकते हैं।

विज्ञान के क्षेत्र में: कंप्यूटर के चलते ही आज के समय में विज्ञान के क्षेत्र में काफी तेजी से विकास हो रहा है। वर्तमान समय में देश दुनिया के कई सारे वैज्ञानिक कंप्यूटर के जरिए एक-दूसरे के साथ जुड़कर एक साथ काम कर रहे हैं।

इसके अलावा रक्षा क्षेत्र में, सरकारी क्षेत्र में, मनोरंजन के क्षेत्र, इत्यादि में कंप्यूटर का बहुत ही बड़ा महत्व है। यानी कुल मिलाकर कहा जाए तो वर्तमान समय में कंप्यूटर लोगों के लिए एक वरदान बनकर साबित हुआ है। इसके साथ ही साथ कंप्यूटर लोगों की एक जरूरत बन चुकी है और इसके बिना जीवन की कल्पना करना भी संभव नहीं है। आज के समय में लगभग सभी जानकार युवाओं और वयस्कों के पास स्मार्टफोन उपलब्ध है जिससे वे कई सारे काम किसी भी समय पूरे कर सकते हैं।

कंप्यूटर के लाभ क्या हैं / Computer ke labh?

ऊपर बताए गए जानकारी को पढ़ने के बाद आप यह अच्छी तरह से समझ गए होंगे कि वर्तमान समय में कंप्यूटर का कितना अधिक महत्व है। अब हम आपको बताएंगे कि कंप्यूटर के लाभ क्या हैं?

  1. मल्टी टास्किंग

कंप्यूटर के जरिए मल्टी टास्किंग करना बहुत ही आसान है। जहां पर आप एक साथ कई सारे काम कर सकते हैं। इतना ही नहीं आप बड़ी-बड़ी घटनाएं कुछ ही सेकंड में हल कर सकते हैं।

  1. तेज गति से काम

कंप्यूटर के जरिए कई सारे काम तेज गति से किए जा सकते हैं। पहले के समय में हमें किसी भी काम को करने के लिए पेन पेपर की आवश्यकता पड़ती थी लेकिन आज के समय में आप कंप्यूटर के जरिए बिना पेन पेपर के कोई भी डाटा अपडेट कर सकते हैं। इसके साथ ही साथ अलग-अलग क्षेत्रों में भी कंप्यूटर के चलते कई सारे कामों में तेजी आई है।

  1. अधिक डाटा स्टोर करने की क्षमता

पहले के समय में जब हमें कोई डाटा अपडेट करना रहता था तो इसके लिए डायरी रखने की आवश्यकता पड़ती थी। समय के साथ डायरी के खोने का भी डर बना रहता था और यदि डायरी का कोई पन्ना फट गया या बेकार हो गया तो उसके बाद कुछ पन्ने पर मौजूद सभी डाटा गायब हो जाते थे। लेकिन वर्तमान समय में आप कंप्यूटर पर अपना डाटा अपडेट कर सकते हैं और इसमें इस प्रकार का कोई झंझट नहीं होता है। आज के समय में कई सारे क्लाउड स्टोरेज भी लॉन्च किए जा चुके हैं जिनके जरिए आप किसी भी डाटा को एक विशेष जगह पर स्टोर करके रख सकते हैं।

  1. सटीकता

यदि हम खुद से पेन पेपर लेकर कोई गणितीय गणना कर रहे हैं तो इसमें गलतियां हो सकती हैं लेकिन कंप्यूटर में ऐसा नहीं है। कंप्यूटर किसी भी घटना को करने में कोई गलती नहीं करता है इसीलिए इसमें सटीकता की शत प्रतिशत गारंटी होती है।

  1. डाटा की सुरक्षा

कंप्यूटर के जरिए डेटा की सुरक्षा करना बहुत ही आसान हो चुका है। जहां पर आप किसी भी डाटा को सुरक्षित तरीके से रख सकते हैं और उन्हें लोगों से बचा सकते हैं। इतना ही नहीं यहां पर किसी भी डाटा को गोपनीय रखना भी काफी आसान होता है।

निष्कर्ष

ऊपर हमने कंप्यूटर के बारे में सभी प्रकार की जरूरी जानकारी उपलब्ध कराई है। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। यदि आपको हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। इसके साथ ही साथ इसी तरह के अच्छे एवं रोचक जानकारियों को पढ़ने के लिए हमारे वेबसाइट को बुकमार्क अवश्य कर लें। हम आप को नियमित रूप से नई-नई जानकारियां उपलब्ध कराते रहेंगे जो आपके लिए काफी काम आएंगे।

 

और पढ़ें:

डिजिटल मार्केटिंग क्या होता है?

ब्लॉगिंग क्या होता है? ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाएँ?

इंस्टाग्राम पर फॉलोअर्स बढ़ाने का तरीका

Google Map Par Location Kaise Add Kare?

ईमेल ID कैसे बनता है?

Online Paise Kaise Kamaye?

होम पेज

Leave a Comment