वेब ब्राउजर क्या होता है? || What is Web Browser in Hindi

वेब ब्राउज़र | What is web browser in hindi | Web browser kya hota hai

आज के समय में इंटरनेट का काफी अधिक इस्तेमाल किया जाता है। हम वेब ब्राउज़र का इस्तेमाल स्मार्टफोन या कंप्यूटर पर इंटरनेट पर मौजूद किसी भी जानकारी को हासिल करने के लिए करते हैं। प्रतिदिन हम अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर पर इंटरनेट आधारित वेब ब्राउज़र का प्रयोग करते हैं, लेकिन बहुत ही कम लोग यह जानते हैं कि वेब ब्राउज़र क्या होता है? इस आर्टिकल में हम आपको हम आपको Web Browser के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

वेब ब्राउजर क्या होता है / Web Browser Kya Hota Hai?

वेब ब्राउज़र एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम या सॉफ्टवेयर होता है जो इंटरनेट पर मौजूद किसी भी जानकारी को खोजने एवं उसे पढ़ने में मदद करता है। आमतौर पर हम वेब ब्राउज़र को संक्षिप्त रूप में ब्राउज़र भी कहते हैं। ब्राउज़र की मदद से हम दुनिया भर में चल रहे किसी भी वेबसाइट को खोल सकते हैं और उसमें मौजूद कंटेंट को पढ़, सुन या देख सकते हैं। आपको बता दें कि वेबसाइट पर जो भी कंटेंट लिखे जाते हैं वह सभी HTML (Hypertext Markup Language) और XML (Extensible Markup Language) फॉर्मेट में इंटरनेट आधारित सर्वर पर स्टोर रहते हैं। वेब ब्राउज़र का काम इस फॉर्मेट में मौजूद कंटेंट को अनुवाद करके यूजर के समझने के अनुसार परिणाम देना है।

वेब ब्राउज़र आपको दुनिया भर में इंटरनेट पर मौजूद किसी भी टेक्स्ट, तस्वीरें और वीडियो देखने का अवसर प्रदान करता है। वेब एक ऐसा विशाल और शक्तिशाली उपकरण है जो दुनिया के सभी देशों को एक साथ जोड़ने का काम करता है और भविष्य के नवाचार को भी बढ़ाने में मदद करता है। एक वेब ब्राउज़र की मदद से आप इंटरनेट पर मौजूद किसी भी जानकारी को बड़े ही आसानी से खोज सकते हैं और उसका उपयोग कर सकते हैं।

आज के समय में हम इंटरनेट पर मौजूद किसी भी जानकारी को खोजने के लिए कुछ महत्वपूर्ण वेब ब्राउज़र्स जैसे Mozilla Firefox, Google Chrome, Microsoft Edge और Apple Safari, इत्यादि का प्रयोग करते हैं। लेकिन बहुत ही कम लोग यह समझते हैं कि वेब ब्राउज़र क्या होता है और वेब ब्राउज़र कैसे काम करता है? बहुत सारे लोग वेब ब्राउज़र को अच्छी तरह से समझते हैं और उसी वेब ब्राउज़र का उपयोग करते हैं जो उन्हें तेजी से इंटरनेट पर मौजूद जानकारी प्रदान करने में मदद करता है।

वेब ब्राउज़र कैसे काम करता है?

एक भी ब्राउज़र आपको इंटरनेट पर मौजूद किसी भी जानकारी को खोजने में मदद करता है। वेब ब्राउजर वेब पर उपलब्ध सभी हिस्सों से जानकारी प्राप्त करके आपके कंप्यूटर या स्मार्टफोन पर दिखाता है। इस जानकारी को ट्रांसफर करने के लिए हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकोल (http) का उपयोग किया जाता है। http वेब पर टेक्स्ट, चित्र और वीडियो कैसे प्रसारित किए जाते हैं, के बारे में परिभाषित करता है। वेब पर मौजूद किसी भी जानकारी को एक अच्छे फॉर्मेट में दिखाने की आवश्यकता पड़ती है, ताकि दुनिया के किसी भी देश में मौजूद कोई भी व्यक्ति किसी भी ब्राउज़र का उपयोग करके उस जानकारी को देख सके।

वर्तमान समय में कई सारे वेब ब्राउजर डिवेलप किए जा चुके हैं लेकिन सभी ब्राउज़र निर्माता फॉर्मेट में अधिक दिलचस्पी नहीं रखते हैं। इसका मतलब यह है कि अलग-अलग वेब ब्राउजर पर एक वेबसाइट अलग अलग दिख सकती है और अलग-अलग तरीके से काम भी कर सकती है। इसके लिए ब्राउज़र निर्माताओं को यह निर्धारित करना जरूरी है कि सभी ब्राउज़र के बीच निरंतरता बनाई जाए ताकि कोई भी यूजर किसी भी ब्राउज़र का उपयोग करके इंटरनेट का बेहतर इस्तेमाल कर सके और एक जैसा अनुभव प्राप्त कर सके। इस प्रक्रिया को वेब मानक (Web Scale) भी कहा जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इंटरनेट पर मौजूद कोई भी जानकारी एक इंटरनेट से जुड़े सर्वर में स्टोर रहता है। जब कोई वेब ब्राउजर उस सर्वर से डाटा प्राप्त करता है तो वह उसे टेक्स्ट और चित्रों में ट्रांसलेट करने के लिए रेंडरिंग इंजन नाम के एक सॉफ़्टवेयर का उपयोग करता है। आपको बता दें कि यह डेटा हाइपरटेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज (HTML) में लिखा गया है। कोई भी वेब ब्राउजर इस कोड को पढ़कर कंटेंट बनाते हैं। इसी कंटेंट को हम इंटरनेट पर देखते, सुनते एवं पढ़ते हैं।

किसी भी वेब ब्राउज़र में हाइपरलिंक का भी अहम योगदान होता है। क्योंकि हाइपरलिंक यूजर्स को वेब पर अन्य पेजों या वेबसाइटों को एक साथ जोड़ने का काम करता है और यह वेब ब्राउज़र को एक रास्ता दिखाता है कि किस डाटा को कहां पर देखना है। इसीलिए प्रत्येक वेब पेज, इमेज और वीडियो का अपना एक यूनिफ़ॉर्म रिसोर्स लोकेटर (URL) होता है, जिसे वेब एड्रेस भी कहते हैं। जब कोई वेब ब्राउज़र डेटा इकट्ठा करने के लिए किसी सर्वर पर जाता है, तो वेब एड्रेस ही उस ब्राउज़र को बताता है कि HTML में वर्णित वह आइटम कहाँ है। इसी के चलते ब्राउज़र यह समझ पाता है कि यूजर जिस जानकारी की तलाश कर रहा है वह आइटम वेब पेज पर कहाँ है।

वेब ब्राउज़र का इतिहास:

वेब ब्राउज़र के लिहाज से 1990 के बाद के युग को वेब युग कहा जाता है। इसीलिए वेब ब्राउज़र के इतिहास के बारे में बात करने के लिए इसे वेब युग से पहले और वेब युग के बाद के कालखंड में समझना बहुत ही जरूरी है।

वेब युग से पहले (1990 से पहले)

आपको बता दें कि 1950 के दशक में कंप्यूटर का आकार इतना बड़ा होता था कि वह पूरे कमरे की जगह लेता था। इसके अलावा उसकी बुद्धि क्षमता की बात करें तो यह वर्तमान समय के कैलकुलेटर की तुलना में भी कम था। लेकिन धीरे-धीरे इसके विकास में तेजी आई और 1960 के दशक तक कंप्यूटर पर काफी जटिल कार्यक्रम चलाना संभव हो सका। ऐसा इसलिए क्योंकि दुनिया के विकसित देशों की सरकारों और विश्वविद्यालयों ने यह सोचकर इस पर काफी तेजी से काम करना शुरू कर दिया कि यदि एक ऐसे मशीन का विकास किया जा सके जो इंसानों का सहयोग कर सके तो वैज्ञानिक दृष्टिकोण से यह काफी मददगार साबित होगा।

आपको बता दें कि ARPANET पहली सफल नेटवर्किंग परियोजना थी, जिसने कंप्यूटर नेटवर्किंग की दुनिया में क्रांति ला दी। इस नेटवर्क के जरिए पहला संदेश 1969 में यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ॉर्निया की कम्प्यूटर साइंस लैब से स्टैन्फ़ोर्ड रिसर्च इंस्टिट्यूट (SRI) को भेजा गया था। इसके बाद कंप्यूटर नेटवर्किंग को बढ़ावा देने के लिए दुनिया भर में कोई नए नेटवर्क बनाए गए। दुनिया के कई बड़े विश्वविद्यालय आपस में जुड़े और रिसर्च सेंटर भी विकसित किए गए।

हालांकि अगले 20 सालों तक आम जनता को इंटरनेट की सुविधा मुहैया नहीं कराई जा सकी। इसे सिर्फ विश्वविद्यालयों सरकारी शोध छात्रों और निजी संस्थाओं के लिए ही सीमित रखा गया। हालांकि उस समय इंटरनेट का उपयोग करना बिल्कुल भी आसान नहीं था। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि 1990 तक वास्तविक तौर पर खुला इंटरनेट और पहला वेब ब्राउज़र विकसित नहीं किया जा सका था। लेकिन उसके बाद वेब ब्राउज़र विकसित किया गया और इसके बाद के युग को वेब युग कहा जा सकता है।

वेब युग (1990 के बाद):

1990 में ब्रिटिश कंप्यूटर साइंटिस्ट टिम बर्नर्स-ली (Tim Berners-Lee) ने CERN, स्विट्ज़रलैंड में काम करते हुए पहला वेब सर्वर और ग्राफ़िकल वेब ब्राउज़र बनाया था। उस दौरान उन्होंने अपने इंटरनेट में इसे WorldWideWeb नाम दिया, जिसे संक्षिप्त रूप में WWW के नाम से जाना जाता है। यह ग्राफिकल इंटरफेस NeXT कंप्यूटर के लिए बनाया गया था, जिसका बड़े ही आसानी से उपयोग किया जा सकता था। यह पहली बार था जब किसी पब्लिक नेटवर्क में टेक्स्ट डॉक्यूमेंट को आपस में जोड़ा गया था। इसे ही हम वेब (Web) के रूप में जानते हैं।

इसके लगभग एक साल बाद टिम बर्नर्स ने CERN के ही एक गणित के छात्र Nicola Pellow को लाइन मोड ब्राउज़र लिखने को कहा। यह बुनियादी कम्प्यूटर टर्मिनल्स के लिए बनाया जाने वाला एक प्रोग्राम था। 1993 तक विश्वविद्यालयों सरकार और निजी संस्थाओं को खुले इंटरनेट में असर दिखने लगा। हालांकि इस इंटरनेट को एक्सेस करने के लिए एक विशेष कंप्यूटर प्रोग्राम की आवश्यकता पड़ती थी।

1993 में ही कंप्यूटर साइंटिस्ट Marc Andreessen का मिशन सफल हुआ और यूनिवर्सिटी ऑफ़ इल्लिनोई अरबना के सुपरकंप्यूटिंग एप्लिकेशन (NCSA) के लिए राष्ट्रीय केंद्र में मोज़ेक डेवलप हुआ, जो कि सबसे पहला चर्चित वेब ब्राउज़र था। आपको बता दें कि यह वेब ब्राउज़र Mozilla Firefox का शुरूआती पूर्वज था।

मोज़ेक ब्राउजर को विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कंप्यूटर पर चलाना बहुत ही आसान था। इस वेब ब्राउज़र के जरिए PC के जरिए बड़े ही आसानी से शुरूआती वेब पेजों, चैट रूम्स और तस्वीरों की लाइब्रेरीज़ तक पहुॅंचा जा सकता था। 1994 में Andreessen ने Netscape डेवलप करना शुरू किया और Netscape Navigator को जनता के लिए रिलीज़ किया। इसे काफी सफलता भी मिली और इसके बाद बहुत से कंप्यूटर साइंटिस्ट और रिसर्च सेंटरों ने वेब ब्राउजर पर काम करना शुरू किया।

ब्राउजर युद्ध:

1995 में माइक्रोसॉफ्ट ने Internet Explorer वेब ब्राउजर लॉन्च किया। इसके बाद Netscape और Internet Explorer के बीच प्रतिस्पर्धा शुरू हो गई, जिसे ब्राउज़र युद्ध के नाम से भी जाना जाता है। हालांकि 1996 तक Netscape की हिस्सेदारी ब्राउजर मार्केट में 86% तक थी। लेकिन अपने मार्केट को बढ़ाने के लिए माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर को अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ जोड़कर कंप्यूटरों में देना शुरू कर दिया। इसका फायदा यह निकला कि 1999 तक इंटरनेट एक्सप्लोरर ने ब्राउज़र मार्केट में 99% कब्जा जमा लिया। इसके बाद जब नेटस्केप उसके प्रतिस्पर्धा में कहीं भी टिकने की स्थिति में नहीं दिखा तो ब्राउज़र युद्ध समाप्त हो गया।

वर्तमान समय में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला वेब ब्राउजर कौन सा है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्तमान समय में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला वेब ब्राउजर Chrome है। इस वेब ब्राउज़र को गूगल द्वारा डिवेलप किया गया है।  इसे सबसे पहले 2008 में माइक्रोसॉफ्ट विंडोज के लिए रिलीज किया गया था। क्रोम वेब ब्राउजर को एप्पल वेबसाइट और मोज़िला फायरफॉक्स से फ्री सॉफ्टवेयर कंपोनेंट्स के साथ तैयार किया गया था। बाद में इसे Linux, macOS, iOS, and Android में भी पोर्ट कर दिया गया, जहां यह डिफॉल्ट ब्राउजर के रूप में रखा गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह ब्राउज़र का Chrome OS का भी मेन कंपोनेंट है, जो वेब एप्लीकेशन के लिए अलग-अलग प्लेटफार्म पर सुविधाएं उपलब्ध कराता है।

अक्टूबर 2021 के अनुसार, StatCounter के आंकड़ों पर नजर डालें तो Chrome वेब ब्राउज़र को  दुनिया भर में 68% PC यूजर्स इस्तेमाल करते हैं। हालांकि नवंबर 2018 तक Chrome को 72.38% पीसी यूजर्स इस्तेमाल करते थे। इसके साथ ही साथ टैबलेट और स्मार्टफोन में भी गूगल क्रोम वेब ब्राउजर का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है। यदि सभी प्लेटफार्म को मिलाकर बात की जाए तो दुनिया भर के 65% ब्राउज़र यूजर गूगल क्रोम वेब ब्राउजर का इस्तेमाल करते हैं। इसी सफलता को देखते हुए गूगल ने अपने दूसरे उत्पादों का नाम है क्रोम के नाम पर रखना शुरू कर दिया। उदाहरण के लिए Chrome OS, Chromecast, Chromebook, Chromebit, Chromebox, and Chromebase, इत्यादि।

Microsoft Edge क्या है?

पहले के समय में विंडोज पीसी के लिए इंटरनेट एक्सप्लोरर नामक वेब ब्राउजर पहले से ही इंस्टॉल होकर आता था। हालांकि यह ब्राउज़र अन्य किसी दूसरे ब्राउज़र के मुकाबले थोड़ा धीमा काम करता था। गूगल क्रोम के बढ़ते इस्तेमाल को देखते हुए माइक्रोसॉफ्ट के सामने कंप्यूटर और स्मार्टफोन के लिए एक बेहतर वेब ब्राउज़र रिलीज करने की आवश्यकता थी। इसी को देखते हुए माइक्रोसॉफ्ट ने Microsoft Edge नाम का एक वेब ब्राउजर Windows 10 और Xbox One के लिए 2015 में रिलीज किया।

इसके बाद Microsoft Edge को 2017 में एंड्रॉयड और iOS के लिए, 20179 में macOS के लिए और 2020 में Linux के लिए रिलीज किया गया। Microsoft Edge वेब ब्राउजर Windows 10, Windows 10 Mobile, Windows 11, Xbox One, and Xbox Series X and Series S consoles में डिफॉल्ट ब्राउजर के रूप में दिया गया है। इसके साथ ही साथ यह Internet Explorer 11 and Internet Explorer Mobile को भी रिप्लेस कर चुका है।

निष्कर्ष:

ऊपर हमने आपको वेब ब्राउज़र से संबंधित कुछ जरूरी जानकारी जैसे Web Browser क्या है? वेब ब्राउज़र कैसे काम करता है? वेब ब्राउज़र का इतिहास, ब्राउज़र युद्ध, वर्तमान समय में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला वेब ब्राउजर और Microsoft Edge क्या है?, के बारे में सभी प्रकार की जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। यदि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। इसी तरह की बेहतरीन जानकारियों के लिए हमारे वेबसाइट को बुकमार्क कर लें।

 

और पढ़ें:

होम पेज

Leave a Comment