Bank Mein Khata Kaise Kholen: बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया

Bank mein khata kaise kholen | Bank mein khata kaise khulta hai | Bank mein khata kaise khulega | बैंक में खाता कैसे खोलें | बैंक में खाता कैसे खुलता है | स्टेट बैंक में खाता खोलना है | SBI बैंक में ऑनलाइन खाता कैसे खोलें | बैंक में खाता कैसे खोला जाता है | बैंक में खाता खोलने के लिए क्या क्या डॉक्यूमेंट चाहिए | मोबाइल से बैंक में खाता कैसे खोलें | मोबाइल से बैंक में खाता कैसे खोलें | बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया

आज के समय में सभी व्यक्तियों के पास बैंक में खाता होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि जब से भारत सरकार के द्वारा DBT योजना लागू किया गया है तब से किसी भी योजना का पैसा सीधे लाभर्थियो के बैंक अकाउंट में ही ट्रांसफर कर दिया जाता है। जैसे की गैस सब्सिडी, वृद्धा पेंशन, किसान सम्मान निधि, स्कॉलरशिप, मनरेगा और भी बहुत साडी योजनाओ का पैसा सीधे लाभार्थियों के bank account में ही भेजा जाता है। सो अगर आपके पास बैंक अकाउंट नहीं होगा तो आप इन योजनाओ का पछ्याङ लेने से वंचित रह सकते हैं। बैंक में खाता होने से आप कभी भी अपने अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं या उसमें पैसे जमा कर सकते हैं। इसके साथ ही साथ यदि आप किसी जगह पर नौकरी करते हैं तो उसका वेतन लेने के लिए भी बैंक अकाउंट होना आवश्यक है।

इस आर्टिकल में हम आपको Bank Mein Khata Kaise Kholen, Bank Mein Khata Kaise Khulta Hai, Bank Mein Khata Kaise Khulega, बैंक में खाता कैसे खोलें, बैंक में खाता कैसे खुलता है, स्टेट बैंक में खाता खोलना है, SBI बैंक में ऑनलाइन खाता कैसे खोलें, बैंक में खाता कैसे खोला जाता है, बैंक में खाता खोलने के लिए क्या क्या डॉक्यूमेंट चाहिए, मोबाइल से बैंक में खाता कैसे खोलें, बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया के बारे में बताएंगे।

Contents

बैंक में कितने प्रकार का खाता खोला जा सकता है?

आप भारत के किसी भी बैंक में अलग-अलग प्रकार के अकाउंट ओपन करा सकते हैं। हर अकाउंट का अपना अलग-अलग काम होता है। नीचे हम आपको बताने जा रहे हैं कि बैंक में कितने प्रकार का खाता खोला जा सकता है?

  1. Current account / चालू खाता

यदि आप खुद का कोई बिजनेस चलाते हैं या कोई व्यापार करते हैं तो आपके लिए करंट अकाउंट खुलवाना बहुत ही आवश्यक है। क्योंकि करंट अकाउंट में प्रतिदिन पेमेंट करने की कोई लिमिट नहीं होती है। इस अकाउंट में आप कभी भी पैसे डिपाजिट कर सकते हैं और उसे निकाल भी सकते हैं। करंट अकाउंट पर आपको ब्याज नहीं मिलता है। हालांकि कुछ बैंक ऐसे भी हैं जो एक निश्चित राशि से अधिक डिपॉजिट करने पर वार्षिक ब्याज भी देते हैं। करंट अकाउंट ऑपरेट करने के लिए आपको हमेशा मिनिमम बैलेंस रखना होता है।

  1. Savings account / बचत खाता

सेविंग अकाउंट एक प्रकार का रेगुलर डिपॉजिट अकाउंट होता है जहां पर आपको पैसे जमा करने पर निर्धारित वार्षिक ब्याज भी मिलता है। सेविंग अकाउंट में प्रतिदिन और महीने में ट्रांजैक्शन करने की सीमा निर्धारित होती है। सेविंग अकाउंट भी अलग-अलग प्रकार के जमाकर्ताओं, उम्र और कमाई के अनुसार खोले जाते हैं और उन पर अलग-अलग सीमा निर्धारित की गई होती है।

सेविंग बैंक अकाउंट बच्चों से लेकर बूढ़े उम्र के लोगों के लिए खोला जा सकता है। इसके साथ आपको एक डेबिट कार्ड भी दिया जाता है ताकि आप किसी भी एटीएम से पैसे निकाल सके। इसके साथ ही साथ मोबाइल बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग की भी सुविधा दी जाती है।

  1. Salary account / वेतन खाता

यदि आप किसी कंपनी या सरकारी संस्था में काम कर रहे हैं और वहां से आपको एक निश्चित वेतन मिलता है तो ऐसे लोगों के लिए सैलरी अकाउंट ओपन करने की सुविधा भी उपलब्ध है। सैलरी अकाउंट में आप अपने इच्छा अनुसार सुविधाएं प्राप्त कर सकते हैं। यहां पर आपको एक मिनिमम बैलेंस मेंटेन करके रखना होता है।

  1. Fixed deposit account / सावधि जमा खाता

ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो कुछ पैसे फिक्स करके रखना चाहते हैं ताकि उन्हें उन पैसों का बेहतर ब्याज मिल सके और भविष्य में वह उसका उपयोग कर सकें। ऐसे लोगों के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट ओपन कराया जाता है। फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट में जमा किए गए पैसों को 7 दिन से लेकर 10 वर्षों तक के लिए फिक्स किया जा सकता है और उस पर ब्याज लिया जा सकता है। यदि आप लंबे समय के लिए फिक्स डिपाजिट करते हैं तो आपको अधिक ब्याज मिलता है और कम समय के लिए फिक्स डिपॉजिट करने पर कम ब्याज मिलता है।

  1. Recurring deposit account / आवर्ती जमा खाता

यदि आप हर महीने या तिमाही में कुछ पैसे निवेश करके एक बड़ा फंड तैयार करना चाहते हैं और उस पर ब्याज भी कमाना चाहते हैं तो इसके लिए रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट ओपन कराना पड़ता है। रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट में मेच्योरिटी पीरियड 6 महीने से लेकर 10 साल तक होता है। यदि आप मेच्योरिटी से पहले पैसे निकालेंगे तो आपको कम ब्याज मिलेगा और साथ ही साथ पेनाल्टी भी ली जाएगी।

  1. Demat Account / डीमैट अकाउंट

यदि आप स्टॉक ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो इसके लिए डीमैट अकाउंट ओपन कराने की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे बैंक जो खुद स्टॉक ट्रेडिंग में हिस्सा लेते हैं वह डिमैट अकाउंट ओपन करने की सुविधा उपलब्ध कराते हैं। यदि आप स्टॉक में निवेश करना चाहते हैं तो इसके लिए डिमैट अकाउंट अवश्य ओपन कराना पड़ता है।

  1. NRI accounts

ऐसे भारतीय लोग जो विदेशों में निवास करते हैं वह NRI अकाउंट ओपन करा सकते हैं। NRI Account 3 प्रकार के होते हैं:

  • Non-resident ordinary (NRO) savings accounts or fixed deposit accounts:

यदि आपने NRO अकाउंट ओपन कर आया है और आप विदेशों से किसी भी करेंसी में पैसे डिपाजिट कर रहे हैं तो, वह ऑटोमेटिक भारतीय करंसी में बदलकर डिपॉजिट हो जाएगा। NRO फिक्स्ड डिपाजिट अकाउंट पर जितना मुनाफा होता है उस पर टैक्स लगाया जाता है।

  • Non-resident external (NRE) savings accounts or fixed deposit accounts

NRE  डिपॉजिट अकाउंट भी NRO अकाउंट की तरह होता है और इसमें भी सभी फंड भारतीय करंसी में मेहनत किए जाते हैं। आप इस अकाउंट में जो भी पैसे डिपाजिट करते हैं वह भारतीय मुद्रा में बदल जाता है। लेकिन जो बैंक अकाउंट सिर्फ विदेशों में की गई कमाई पर काम करता है। इस अकाउंट में डिपाजिट किए गए पैसे को बड़े ही आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है लेकिन इस पर मिलने वाला ब्याज या होने वाली कमाई पर भारत में टैक्स नहीं लिया जाता है।

  • Foreign Currency Non-resident (FCNR) Account

FCNR अकाउंट में जो भी पैसे डिपाजिट किए जाते हैं वह फॉरेन करेंसी में ही रहते हैं। इन पैसों को आप कहीं भी ट्रांसफर कर सकते हैं लेकिन इस पर मिलने वाले मुनाफे पर भारत में टैक्स नहीं लगता है।

बैंक में खाता कैसे खोलें? | Bank Mein Khata Kaise Kholen? | बैंक में खाता कैसे खुलता है | Bank Mein Khata Kaise Khulta Hai| बैंक में खाता कैसे खोला जाता है? | Bank Mein Khata Kaise Khulega?

यदि आप बैंक में खाता खोलना चाहते हैं तो इसके दो प्रक्रिया होती है:

  1. बैंक शाखा जाकर ऑफलाइन फॉर्म द्वारा: यह काफी पुराना तरीका है जब इंटरनेट का विकास नहीं हुआ था। आज के समय में भी बहुत सारे लोग बैंक शाखा में जाकर फॉर्म भर के और उसके साथ सभी दस्तावेजों की छाया प्रति लगाकर जमा करते हैं और अपना अकाउंट ओपन कर आते हैं। लेकिन यहां पर आपको सभी कागजात जमा करने के बावजूद KYC कराना पड़ता है। क्योंकि आज के समय में लगभग सभी बैंक घर बैठे ऑनलाइन अकाउंट को ओपन कराने की सुविधा उपलब्ध कराते हैं इसीलिए अब बैंक शाखा जाकर वही लोग अकाउंट ओपन कराते हैं, जिन्हें ऑनलाइन माध्यम से अकाउंट ओपन करने की जानकारी नहीं है।
  2. ऑनलाइन माध्यम से: वर्तमान समय में लगभग सभी बैंक ऑनलाइन माध्यम से बैंक अकाउंट ओपन करने की सुविधा उपलब्ध कराते हैं। इसमें बहुत अधिक समय नहीं लगता है और ना ही कोई लंबी प्रक्रिया होती है। इस माध्यम में आपको अपने सभी डॉक्यूमेंट की स्कैन कॉपी अपने कंप्यूटर जाए स्मार्टफोन में रखना होता है और साथ ही साथ यहां ऑनलाइन फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारियों को सही सही भरना होता है।

फॉर्म भरने और दस्तावेज अपलोड करने के बाद KYC के लिए शेड्यूल निर्धारित करना होता है। इस तारीख को बैंक का कोई कर्मचारी आपके घर पर आकर KYC की प्रक्रिया पूरी कर देगा या फिर बहुत सारे बैंक ऑनलाइन KYC की सुविधा भी उपलब्ध कराते हैं।

इतना ही नहीं बहुत सारे ऐसे भी बैंक हैं जो इंस्टैंट अकाउंट ओपन करने की सुविधा देते हैं। तीन प्रकार के अकाउंट में आपको सिर्फ अपना आधार कार्ड पैन कार्ड मोबाइल नंबर ईमेल आईडी और नाम दर्ज करना होता है। इसके बाद ऑटोमेटिक आपका अकाउंट ओपन हो जाता है। उदाहरण के रूप में Kotak 811 Account, Axis ASAP Account, इत्यादि।

बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया:

यदि आप बैंक में खाता खुलवाना चाहते हैं तो नीचे हम आपको ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया समझाने जा रही हैं।

ऑनलाइन माध्यम से बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया:

  • ऑनलाइन माध्यम से बैंक में खाता खोलने के लिए आपको सबसे पहले बैंक की वेबसाइट पर विजिट करना होगा।
  • इसके बाद आपको बैंक अकाउंट का प्रकार चुनना होगा। फिर एक ऑनलाइन फॉर्म ओपन हो जाएगा जिसमें आपको सभी जानकारियों को सही-सही भर कर सेव करना होगा।
  • फॉर्म भरने के बाद आपसे जो भी दस्तावेज अपलोड करने को कहे जाएं उसे अपलोड करके फॉर्म को सबमिट करना होगा।
  • इसके बाद KYC के लिए शेड्यूल निर्धारित करना होगा। आप जो भी तारीख सेलेक्ट करेंगे उस तारीख पर नजदीकी बैंक शाखा का कर्मचारी आपके घर पर आकर KYC की प्रक्रिया पूरा कर देगा या तो आप उस तारीख को बैंक शाखा जाकर खुद KYC की प्रक्रिया पूरा कर लेंगे।
  • इसके अलावा कई सारे बैंक ऑनलाइन KYC की सुविधा देते हैं जिसमें आपको ऑनलाइन वीडियो कॉलिंग के जरिए KYC की प्रक्रिया पूरी कराई जाती है इसमें आपको अपना आधार कार्ड एवं पैन कार्ड साथ में रखना होता है।

बैंक शाखा जाकर ऑफलाइन माध्यम से बैंक में खाता खोलने की प्रक्रिया:

  • सबसे पहले अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाएं और वहां से आपको जिस भी प्रकार का अकाउंट ओपन कराना है उस फॉर्म को प्राप्त करें।
  • इसके बाद उस फॉर्म को सही-सही भर कर में निर्धारित जगहों पर अपनी फोटो चिपका दें। फिर संबंधित दस्तावेजों की फोटोकॉपी साथ में जोड़ दें।
  • इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद फॉर्म को संबंधित कर्मचारी के पास जमा कर दें। कुछ ही देर में आपका अकाउंट खुल जाएगा और इससे संबंधित जानकारी आपको मिल जाएगी।
  • बैंक शाखा जाकर सेविंग बैंक अकाउंट खुलवाने पर आपको एक वेलकम किट भी दिया जाता है जिसमें डेबिट कार्ड और बैंक अकाउंट से संबंधित सभी जानकारी लिखी होती है।

मोबाइल से बैंक में खाता कैसे खोलें?

मोबाइल के जरिए आप ऑनलाइन माध्यम से खाता खोल सकते हैं। जिस तरह से हमने ऊपर ऑनलाइन माध्यम से खाता खोलने की जानकारी दी है आपको वही प्रक्रिया अपनानी होती है।

  • यदि आप मोबाइल से बैंक में खाता खोलना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन बैंक अकाउंट खोलने के ऑप्शन को चुनना होता है।
  • इसके बाद बैंक अकाउंट के प्रकार को चुनकर ऑनलाइन फॉर्म को सही सही भरना होता है।
  • इसके साथ ही साथ जो भी दस्तावेज मांगे जाएं उसे अपलोड करना होता है।
  • इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद KYC की प्रक्रिया पूरी करनी होती है और उसके लिए आपको बैंक के नजदीकी शाखा पर जाने की भी आवश्यकता पड़ सकती है।

बैंक में खाता खोलने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

किसी भी बैंक में अलग-अलग प्रकार के खाता खोले जाते हैं, जिसमें से सेविंग बैंक अकाउंट और करंट बैंक अकाउंट की मांग सबसे अधिक होती है। नीचे हम आपको बताएंगे कि बैंक में खाता खोलने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • GST सर्टिफिकेट (करंट अकाउंट के लिए)
  • बिजनेस रजिस्ट्रेशन का प्रमाण (करंट अकाउंट के लिए)

यदि आपके पास उपर्युक्त कागजातों के अलावा मोबाइल नम्बर, ईमेल आईडी, करंट एड्रेस प्रूफ, इत्यादि उपलब्ध है, तो आप बड़े ही आसानी से किसी भी बैंक में अपना खाता खुलवा सकते हैं।

SBI बैंक में ऑनलाइन खाता कैसे खोलें?

यदि आप SBI बैंक में ऑनलाइन खाता खोलना चाहते हैं तो नीचे हम आपको इसकी स्टेप बाय स्टेप प्रक्रिया बताने जा रहे हैं।

  • SBI बैंक में ऑनलाइन खाता खोलने के लिए सबसे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ऑफिशियल वेबसाइट पर विजिट करें।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको एक जगह ‘Apply Now’ का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक कर दें।
  • इस पर क्लिक करने के बाद आप सीधे SBI Yono Online Portal पर रीडायरेक्ट हो जाएंगे।
  • इस पोर्टल पर आपको Digital Savings Account और Instant Savings Account में से किसी एक को चुनना होगा।
  • दोनों में से किसी एक को चुनने के बाद Apply बटन पर क्लिक कर दें।
  • अब आपको अपना आधार और पैन नंबर दर्ज करना होगा। इसके बाद आपसे यहां पर जो भी जानकारी मांगी जाए उसे सही-सही भर कर Submit बटन पर क्लिक कर दें।
  • इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद SBI बैंक में आपका खाता खुल जाएगा और अब आपको सिर्फ KYC की प्रक्रिया पूरी करनी होगी।
  • यदि आपने Digital Savings Account का विकल्प चुना है तो आपको अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर KYC वेरीफिकेशन कराना होगा।
  • इसके साथ ही साथ यदि आपने Instant Savings Account के विकल्प को चुना है तो OTP के जरिए KYC वेरीफिकेशन किया जा सकता है।

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बैंक में खाता कैसे खोलें, SBI बैंक में ऑनलाइन खाता कैसे खोलें? | बैंक में खाता खोलने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?। Bank Mein Khata Kaise Kholen, के बारे में जानकारी दी है। अगर आप भी बैंक में अपना खाता खोलना चाहते हैं। तो हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बैंक में खाता कैसे खोलें के बारे में पूरी विश्तृत जानकारी दी है। इस आर्टिकल को पढ़कर आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे की बैंक में अकाउंट कैसे खोले।

 

और पढ़ें:

होम पेज

Leave a Comment