About Taj Mahal in Hindi: ताजमहल का इतिहास

About Taj Mahal in hindi | Taj Mahal history | Tajmahal history in hindi | Taj Mahal kab bana tha

आप सभी लोगों में से कई लोग ताजमहल देखने जरूर गए होंगे। विश्व का सातवां अजूबा माना जाने वाला ताजमहल आगरा शहर में स्थित पर्यटन का एक केंद्र है जिसे देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक यहां पहुंचते हैं। ताजमहल का निर्माण मुगल सम्राट शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज महल के नाम पर कराया था।

शाहजहां के काल में स्थापत्य कला का विकास अपनी चरम पर था और इसी क्रम में उन्होंने ताजमहल का निर्माण करवाया जो मुगल वास्तुकला और स्थापत्य कला का एक बेजोड़ नमूना है। इस आर्टिकल में हम आपको ताजमहल के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

ताजमहल के बारे में (About Taj Mahal In Hindi)

ताजमहल मुगल वास्तुकला एवं स्थापत्य कला उत्कृष्टता का जीता जागता सबूत है। इस खूबसूरत भवन का निर्माण भारतीय और इस्लामिक शैली में किया गया है। शाहजहां के काल में बनाए गए सभी भवनों में से ताजमहल को सबसे बेहतरीन और आकर्षक भवन माना जाता है। इसीलिए यह विश्व का अजूबा भी बना हुआ है। इतना ही नहीं सन 1983 में इसे यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल की सूची में भी शामिल किया।

सफेद संगमरमर से बने ताजमहल की प्रशंसा बिस्तर पर की जाती है और इसे इस्लामिक साम्राज्य में बना सबसे बेहतरीन भवन बताया जाता है। ताजमहल को डिजाइन करने की जिम्मेदारी उस समय के प्रसिद्ध वास्तुकला जानकार उस्ताद अहमद लाहौरी को सौंपी गई थी। इसका निर्माण कार्य 1648 ईसवी के लगभग संपन्न हुआ था। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शाहजहां के काल में बना दिल्ली का लाल किला भी उस्ताद अहमद लाहौरी ने ही डिजाइन किया था।

ताजमहल का इतिहास

आगरा नगर के यमुना नदी के दक्षिण तट पर ताजमहल की नींव रखी गई थी। पहले यहां पर जयपुर के महाराजा जयसिंह का महल हुआ करता था। लेकिन शाहजहां इसी जगह पर ताजमहल बनाना चाहते थे, इसीलिए उन्होंने इस जगह के बदले महाराजा जय सिंह को आगरा शहर के बीचोबीच एक बड़ा महल दिया था।

ताजमहल हाथी दांत सफेद संगमरमर का मकबरा है, जिसे 1632 में मुगल सम्राट शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में एक मकबरे के रूप में निर्मित कराया था। यह मकबरा लगभग 42 एकड़ क्षेत्र में फैले ताजमहल परिसर के केंद्र में बना हुआ है। ताजमहल परिसर में एक मस्जिद और एक गेस्ट हाउस भी बना हुआ है और इसके तीनों तरफ औपचारिक उद्यान भी बनाए गए हैं।

ताजमहल परिसर में बने मकाबरे के निर्माण का कार्य 1643 में ही पूरा कर दिया गया था। लेकिन इसके सुंदरीकरण सहित अन्य प्रकार के परियोजनाओं को पूरा करने में अतिरिक्त 10 वर्ष लग गए।

जैसे ही ताजमहल का निर्माण कार्य पूरा हुआ वैसे ही शाहजहां के पुत्र औरंगजेब ने उन्हें बादशाह के पद से हटाकर आगरा के किले में नजरबंद कर दिया। जब नजरबंदी के दौरान उनकी मृत्यु हो गई तो उन्हें भी ताजमहल में ही अपनी पत्नी मुमताज महल के बगल में दफना दिया गया। हालांकि उसके बाद से ताजमहल में कोई भी निर्माण कार्य नहीं कराया गया, जिसके चलते 19वीं शताब्दी तक इसकी हालत काफी बेकार होती चली गई।

1857 के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दौरान ताजमहल पर ब्रिटिश सैनिकों एवं अधिकारियों का कब्जा हो गया जिन्होंने इस में जुड़े हुए बहुमूल्य पत्थरों, रत्नों, इत्यादि को खोदकर निकालने का काम किया। 19वीं शाताब्दी के अंत में वाइसरॉय जॉर्ज नैथैनियल कर्ज़न ने ताजमहल को प्रत्यावर्ती करने के लिए एक बड़ी परियोजना शुरू की जो लगभग 1908 में पूरी हुई। उसके द्वारा आंतरिक कक्ष में एक बड़ा चिराग बनवाया गया जो काहिरा में स्थित मस्जिद से मिलता-जुलता है। ताजमहल परिसर में यह आकर्षण का केंद्र है और बहुत सारे लोग इसे देखने के लिए ही वहां पहुंचते हैं।

सन 1942 में ब्रिटिश सरकार ने मकाबरे के आसपास एक सुरक्षा कवच बनवाया। वित्तीय विश्वयुद्ध के दौरान जर्मनी और जापान द्वारा किए गए हवाई हमले से सुरक्षा दिलाने में मचान सहित पैड बल्ली के बनाए गए कवच ने सुरक्षा प्रदान की।

1965 और 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भी यही तरीका अपनाया गया था ताकि आसमान से बम बरसाने वाले लोग भ्रमित हो सकें।

1983 में ताजमहल को विश्व विरासत स्थल के रूप में यूनेस्को द्वारा नामित किया गया। बहुत सारे लोग इससे मुगल वास्तुकला का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण और भारत के गौरवशाली इतिहास का प्रतीक भी मानते हैं। यहां पर पर साल 70 से 80 लाख पर्यटक आते हैं। साल 2007 में इसे विश्व का सातवां अजूबा भी घोषित किया गया था।

ताजमहल कब बना था? / Taj Mahal kab bana tha?

ताजमहल के निर्माण कार्य का आरंभ 1632 ईस्वी में हुआ था। ताजमहल परिसर के बीचो-बीच बने मकबरे का निर्माण कार्य 1643 ईस्वी में पूरा हो गया था। लेकिन अन्य प्रकार के सुंदरीकरण और निर्माण कार्यों में अतिरिक्त 10 वर्ष लग गए। यानी ताजमहल का निर्माण कार्य 1632 से लेकर 1653 इसवी तक चला था।

ताजमहल कैसे पहुंचे?

यदि आप ताजमहल पर्यटन के लिए जाना चाहते हैं और यह जानना चाहते हैं कि ताजमहल कैसे पहुंचे? तो नीचे हम आपको हवाई जहाज द्वारा, ट्रेन द्वारा और सड़क के द्वारा ताजमहल पहुंचने के तरीके बताने जा रहे हैं।

हवाई जहाज द्वारा ताजमहल कैसे पहुंचे? यदि आप हवाई यात्रा करके ताजमहल पहुंचना चाहते हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि खेरिया हवाई अड्डे से ताजमहल की दूरी लगभग 10 किलोमीटर है और यहां पहुंचने में लगभग 12 मिनट लगते हैं। आप हवाई जहाज द्वारा खेरिया हवाई अड्डे पर उतर कर किसी भी वाहन के जरिए यहां पहुंच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा ताजमहल कैसे पहुंचे?

यदि आप ट्रेन द्वारा ताजमहल पहुंचना चाहते हैं तो आगरा में अलग-अलग शहरों से कई सारी ट्रेन आती हैं। जहां पर आगरा छावनी मुख्य रेलवे स्टेशन है जो ताजमहल से काफी नजदीक है। इसके अलावा आप राजा की मंडी और आगरा किला स्टेशन पर भी उतर सकते हैं।

सड़क के द्वारा ताजमहल कैसे पहुंचे?

सड़क के द्वारा आगरा पहुंचना बहुत ही आसान है क्योंकि यहां पर उत्तर प्रदेश और आसपास के कई राज्यों से नियमित बस सेवाएं उपलब्ध हैं। यदि आप सड़क यात्रा करके ताजमहल पहुंचना चाहते हैं तो इसके लिए ईदगाह या आईएसबीटी बस स्टैंड के लिए बस पकड़ सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से ताजमहल कहां है और ताजमहल कब बना के बारे में हमने आपको पूरी जानकारी दी है। और हमने आपको ताजमहल के हिस्ट्री के बारे में पूरी इंफॉर्मेशन विस्तार से दी है। आशा करता हूं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको ताज महल के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त हो गई होगी। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप हमें कमेंट करके अपनी राय अवश्य दें धन्यवाद।

 

और पढ़ें:

कुतुब मीनार के बारे में

होम पेज

Leave a Comment